बिज़नेस लोन कैसे लें? | Business loan process in hindi

बिज़नेस लोन

क्या आप अपना नया बिजनेस शुरू करने के लिए लोन लेना चाहते हैं? सिर्फ आप नहीं, बहुत सारे मध्य श्रेणी के लोग अपना खुद का बिजनेस शुरू करने के लिए बैंक से लोन चाहते हैं. लेकिन अधिकतर लोगों को यह पता ही नहीं है कि, कैसे नया बिजनेस शुरू करने के लिए लोन लिया जाता है.

बैंक और NBFC लोगों को बिज़नेस शुरू करने, बिज़नेस बढ़ाने और व्यवसाय की अन्य ज़रूरतों को पूरा करने के लिए बिज़नेस लोन (Business Loan) देते हैं। बिज़नेस लोन दो प्रकार के होते हैं, सिक्योर्ड और अन-सिक्योर्ड लोन। सिक्योर्ड लोन में आवेदक लोन के लिए बैंक के पास कोई सिक्योरिटी/ गारंटी को गिरवी रखता है। हालाँकि, अन-सिक्योर्ड लोन के मामले में, बैंक को कोई सिक्योरिटी/ गारंटी देने की ज़रूरत नहीं है। अधिक जानकारी के लिए इस लेख को पढ़ें।

आज इस लेख में विस्तार से बताएंगे कि, आप कैसे कोई भी नया बिजनेस शुरू करने के लिए सरकार या फिर बैंक से अपना मनचाहा लोन पा सकते हैं.

ज़्यादातर बैंक/ NBFC अन-सिक्योर्ड बिज़नेस लोन ही देते हैं जैसे, टर्म लोन, वर्किंग कैपिटल लोन, सरकारी योजनाओं के अंतर्गत लोन, ओवरड्राफ्ट और आदि। बैंक सिक्योर्ड लोन भी प्रदान करते हैं जैसे, लैटर ऑफ़ क्रेडिट, बिल डिस्काउंटिंग, इक्विपमेंट फाइनेंस, POS लोन, आदि।

बिज़नेस लोन के तहत न्यूनतम Rs 30,000 तक दिए जाते हैं, इस तरह के छोटे बिज़नेस लोन अधिकतर NBFC, स्मॉल फाइनेंस बैंक और माइक्रो फाइनेंस इंस्टिट्यूट देते हैं। एक आवेदक 1 करोड़ रु. तक का अन-सिक्योर्ड बिज़नेस लोन ले सकता है। MSME और स्टार्ट-अप भी छोटे बिज़नेस लोन ले सकते हैं।

मुख्य बैंकों और NBFC की ब्याज दरें: Business loan process in hindi

बिज़नेस लोन की ब्याज दरें (Business Loan Interest rates) 14.99% प्रति वर्ष से शुरू होती हैं और आवेदक की क्रेडिट प्रोफाइल के आधार पर इन्हें तय किया जाता है।

बैंक/NBFC/ फिन-टैकब्याज दरें (प्रति वर्ष)
कोटक महिंद्रा बैंक16% से शुरू
HDFC बैंक16% से शुरू
ज़िप लोन16% से शुरू
फ्लेक्सी लोन16% से शुरू
ऐक्सिस बैंक17% से शुरू
फुलर्टन फाइनेंस17% से शुरू
बजाज फिनसर्व17% से शुरू
यस बैंक17% से शुरू
टाटा कैपिटल फाइनेंस17% से शुरू
ICICI बैंक18% से शुरू
लेंडिंगकार्ट फाइनेंस18% से शुरू
हीरो फिनकोर्प18% से शुरू
IIFL फाइनेंस18% से शुरू
इंडीफी फाइनेंस18% से शुरू
RBL बैंक19% से शुरू
SME कॉर्नर19% से शुरू
यू ग्रो कैपिटल19% से शुरू
IDBI 13% से शुरू
IDFC फर्स्ट बैंक20% से शुरू
HDB फाइनेंशियल सर्विस लिमि.22% से शुरू

बिज़नेस लोन लेने के लिए क्रेडिट स्कोर का महत्व

बिज़नेस लोन की मंज़ूरी में क्रेडिट स्कोर की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।क्रेडिट स्कोर दर्शाता है कि आपका क्रेडिट रिकॉर्ड कैसा रहा है और आपने अभी तक लोन और क्रेडिट कार्ड को कैस मैनेज किया है। आमतौर पर, बैंकों द्वारा 750 या ज़्यादा का क्रेडिट स्कोर अच्छा माना जाता है। अगर आपका क्रेडिट स्कोर 650 या उससे कम है तो भी NBFC, स्मॉल फाइनेंस बैंक और माइक्रो फाइनेंस इंस्टिट्यूट से लोन मिलने की संभावना होती है।

बैंकों/ लोन संस्थानों द्वारा बिज़नेस लोन (Business Loan) के लिए जो क्रेडिट स्कोर सीमा तय की गई हैं, वो स्वयं-रोज़गार पेशेवर, MSME, रिटेलर या निर्माणकर्ता और आदि के लिए अलग-अलग होती है।

बैंक/ NBFC अलग-अलग प्रकार के बिज़नेस लोन के मुताबिक भी क्रेडिट स्कोर सीमा तय करते हैं जैसे, टर्म लोन, वर्किंग कैपिटल लोन, लैटर ऑफ़ क्रेडिट, ओवरड्राफ्ट, पीओएस लोन, आदि। इस प्रकार, बिज़नेस लोन के लिए कितना क्रेडिट स्कोर चाहिए ये लोन के प्रकार और आवेदक के प्रकार पर निर्भर करता है।

जो लोग न्यू-टू क्रेडिट हैं, मतलब जिनका क्रेडिट स्कोर नहीं है उन्हें भी लोन मंज़ूरी के लिए क्रेडिट स्कोर बनाना शुरू कर देना चाहिए, क्योंकि कम क्रेडिट स्कोर वाले आवेदकों की लोन एप्लिक्षण अस्वीकार होने की अधिक संभावना होती है। स्टार्ट-अप को बिज़नेस लोन (Business Loan for Start-up) लेने के लिए ज़्यादा क्रेडिट स्कोर चाहिए होता है, क्योंकि उनका क्रेडिट रिकॉर्ड बहुँत कम होता है और वो एक नया बिज़नेस स्थापित करने जा रहे हैं। इसलिए, लोन मंज़ूरी की संभावना बढ़ाने के लिए एक अच्छा क्रेडिट स्कोर बनाएं और मैंटेन करें।

बिज़नेस लोन योग्यता शर्तें

  • बिज़नेस कब से चल रहा हो: 1 वर्ष और ज़्यादा
  • मौजूदा बिज़नेस का न्यूनतम वार्षिक टर्नओवर 12 लाख रु. होना चाहिए
  • क्रेडिट स्कोर: 750 और ज़्यादा
  • आवेदक का पिछले कोई लोन डिफ़ॉल्ट रिकॉर्ड नहीं होना चाहिए
  • योग्य आवेदक जो लोन अप्लाई कर सकते हैं
  • व्यक्ति, स्वयं-रोज़गार पेशेवर, स्टार्ट-अप और माइक्रो, स्मॉल एंड मीडियम एंटरप्राइज़ (MSME)
  • प्राइवेट और पब्लिक लिमिटेड कम्पनियाँ, एक मालिकाना अधिकार वाली कंपनी, पार्टनरशिप फर्म, लिमिटेड लायबिलिटी पार्टनरशिप और निर्माण, व्यापर या सेवा क्षेत्र की बड़ी कम्पनियाँ
  • NGO, को-ऑपरेटिव सोसाइटी, ट्रस्ट, CA, डॉक्टर, आर्किटेक्ट, कंपनी सेक्रेटरी, डिज़ाइनर, आदि।
  • बिज़नेस लोन के लिए ज़रूरी दस्तावेज
  • बिज़नेस लोन के लिए अप्लाई करते समय आपको निम्नलिखित दस्तावेज भी जमा करने होंगें:
  • आवेदक के KYC दस्तावेज जिसमें हैं, पैन कार्ड, पासपोर्ट, आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, वोटर आईडी कार्ड, यूटिलिटी बिल (बिजली/ पानी के बिल)
  • पिछले 1 साल की बैंक स्टेटमेंट
  • अन-सिक्योर्ड ओवरड्राफ्ट, अगर कोई है
  • बिज़नेस इंकॉर्पोरेशन
  • बैंक के द्वारा माँगा जाने वाला कोई अन्य दस्तावेज
  • बिज़नेस लोन की फीस और शुल्क
  • बिज़नेस लोन की फीस और शुल्क (Business Loan Fee & Charges) एक बैंक से दूसरे बैंक में अलग-अलग होते हैं। फीस और शुल्क लोन राशि, ब्याज दर और भुगतान अवधि पर निर्भर करते हैं।

आपकी जानकारी के आधार पर आपको उन लोन ऑफर की लिस्ट(फ़ोन द्वारा हमारे लोन बिज़नेस पार्टनर्स के द्वारा) दी जाएगी जिन्हें अप्लाई करने के लिए आप योग्य हैं। उनमें से तुलना करें और अपने लिए सबसे बेहतर चुनें


इसके बाद संबंधित बैंक का प्रतिनिधि आपसे अन्य औपचारिकताओं के लिए संपर्क करेगा
आपके द्वारा दी गई जानकारी, दस्तावेजों की वेरिफिकेशन और बैंक की मंज़ूरी के कुछ दिनों के अंदर लोन राशि आपके बैंक अकाउंट में ट्रान्सफर कर दी जाएगी

महिलाओं के लिए विशेष बिज़नेस लोन योजनाएं

महिलाओं के बीच उद्यमिता को बढ़ावा देने के लिए बैंकों ने महिला उद्यमियों को विशेष लोन योजनाएं देनी शुरू कर दी है। इन लोन योजनाओं में महिलाओं को ब्याज दर और सिक्योरिटी/ गारंटी में रियायत दी जाती है।

कुछ बैंकों में महिला उद्यमियों के लिए विशेष विभाग भी हैं जहां वे उन्हें लोन योजनाओं के बारे में बताया जाता है, व्यवसाय संबंधित सलाह दी जाती है और ट्रेन भी किया जाता है। वह महिला उद्यमी जिनकी हिस्सेदारी कंपनी में 50% से कम है, वे महिला विशेष लोन योजनाओं के लिए योग्य नहीं हैं।

महिला उद्यमियों के लिए कुछ लोकप्रिय लोन योजनाएं निम्नलिखित हैं:

  • महिला उद्यम निधि योजना
  • महिला समृधि योजना
  • सेन्ट्रल बैंक ऑफ़ इंडिया से सेंट कल्याणी
  • स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से श्रृंगार और अन्नपूर्णा
  • स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से स्त्री शक्ति पैकेज
  • बैंक ऑफ बड़ौदा से देना शक्ति योजना
  • उद्योगिनी योजना

भारत सरकार द्वारा दी जाने वाली बिज़नेस लोन योजनाएं

  • मुद्रा लोन योजना
  • PMRY: प्रधानमंत्री रोज़गार योजना
  • PMEGP: प्रधानमंत्री रोज़गार सृजन योजना
  • CGTMSE: छोटे व्यवसायों के लिए क्रेडिट गारंटी फण्ड ट्रस्ट
  • 59 मिनट में PSB लोन
  • स्टैंड-अप इंडिया
  • स्टार्ट-अप इंडिया
  • क्रेडिट-गारंटी योजना
  • CLCSS: क्रेडिट लिंक्ड गारंटी सब्सिडी स्कीम
  • नेशनल स्मॉल इंडस्ट्री कॉर्पोरेशन सब्सिडी

बिज़नेस लोन के प्रकार

टर्म लोन (Term Loan)

टर्म लोन कई प्रकार के होते हैं, शॉर्ट-टर्म लोन, लॉन्ग-टर्म लोन और अन्य स्मॉल बिज़नेस लोन (Small Business Loan)। टर्म लोन के तहत लोन दिया जाता है वो आवेदक की प्रोफाइल और ज़रूरत पर निर्भर करती है और इसका भुगतान 12 महीनों से 5 वर्ष तक में किया जा सकता है।

टर्म लोन को दो भागों में बाटा जा सकता है, अन-सिक्योर्ड बिज़नेस लोन और सिक्योर्ड बिज़नेस लोन। सिक्योर्ड लोन के लिए बैंक में सिक्योरिटी/ गारंटी देनी पड़ती है, जबकि अन-सिक्योर्ड लोन में ऐसा कुछ नहीं है।

वर्किंग कैपिटल लोन (Working Capital Loan)

वर्किंग कैपिटल लोन व्यवसायों की रोज़मर्रा की ज़रुरतों को पूरा करने के लिए दिए जाते हैं। अन्य कामों के लिए भी ये लोन लिया जा सकता है जैसे व्यवसाय को बढ़ाने के लिए, मशीनरी या उपकरण खरीदने के लिए, कच्चा माल खरीदने, किराया या कर्मचारियों का वेतन देने और आदि के लिए।

बिल (इनवॉइस) डिस्काउंटिंग (Bill Discounting Loan)

बिल डिस्काउंटिंग भी एक प्रकार का लोन है जो बैंक और NBFC देते हैं। एक विक्रेता जो उधारी पर सामान बेचता है, खरीदार से मिली बिल रसीद बैंक को देता है, रसीद इस बात का प्रमाण होती है कि बेचे गए सामान का पैसा तय तारीख को मिल जाएगा, बैंक इस रसीद के मूल्य से कुछ कम राशि विक्रेता को दे देता है और जब खरीदार रसीद का भुगतान करता है तो वो पैसा बैंक रख लेता है।

लैटर ऑफ़ क्रेडिट (Letter of Credit)

लैटर ऑफ़ क्रेडिट का उपयोग अंतर्राष्ट्रीय व्यापार में किया जाता है, एक उद्योग जो अतर्राष्ट्रीय इम्पोर्ट-एक्सोर्ट का बिज़नेस करता है उसे दूसरे देश के सप्लायरों के साथ काम करना होता है। इन सप्लायरों को ये गारंटी चाहिए होती है कि उन्हें समय पर उनका भुगतान मिल जाएगा, ये गारंटी उद्योग की ओर से बैंक लौटर ऑफ़ क्रेडिट जारी कर के देता है।

पॉइंट ऑफ़ सेल (POS) लोन (POS Loan)

इस लोन में व्यापारी अपने बिक्री के रिकॉर्ड के आधार पर लोन लेता है। व्यापारी को बैंक को ये रिकॉर्ड देना होता है कि पिछले कुछ महीनों में उसके यहाँ POS मशीन (जिस मशीन पर खरीदारी/ भुगतान के लिए डेबिट/ क्रेडिट कार्ड स्वाइप किया जाता है) पर कितने मूल्य की खरीदारी हुई। इसी रिकॉर्ड के आधार पर बैंक व्यापारी को लोन देता है और अगले महीने फिर से खरीदारी होने पर व्यापारी को लोन का भुगतान करना होता है। इसमें लोन भुगतान के भी कई विकल्प होते हैं जैसे, व्यापारी महीने के महीने लोन का भुगतान करेगा या POS मशीन पर जो भी खरीदारी हो रही है उसका कुछ हिस्सा व्यापारी और कुछ बैंक को चला जाएगा।

ओवरड्राफ्ट लोन (Overdraft Loan)

ओवरड्राफ्ट लोन में आपको एक ओवरड्राफ्ट अकाउंट दिया जाता है जिसके लिए सीमित राशि स्वीकार की जाती है। आप उस सीमित राशि तक उस अकाउंट से जब चाहे तब पैसे निकाल सकते हैं। ब्याज केवल निकाली गई राशि पर लगेगा ना कि पूरी राशि पर। उदाहरण: अगर आपको 2 लाख रु. का ओवरड्राफ्ट मिला और आपने उसमें से 1 लाख रु. निकाले तो ब्याज केवल 1 लाख रु. पर ही लगेगा न कि 2 लाख रु. पर।

बिज़नेस लोन के लिए कैसे अप्लाई करें?

नीचे दिए गए आसान तरीके से बिज़नेस लोन के लिए अप्लाई करें:

  • जानकारी दर्ज करें
  • अब आपको व्यक्तिगत जानकारी, रजिस्टर मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी और रोज़गार संबंधित जानकारी दर्ज करनी होगी

भारत सरकार ने हर एक नागरिक के लिए 15 से अधिक इस 2022 मैं बिजनेस लोन योजना को चालू करके रखा है. जिसके द्वारा हर एक छोटा एवं बड़े बिजनेसमैन उसका बिजनेस मॉड्यूल सरकार या बैंक को दिखाकर, सरकार से अधिक से अधिक लोन ले सकते हैं.

नया बिजनेस शुरू करने के लिए लोन कैसे मिलेगा?

कोई भी नया बिजनेस के लिए पहली बार हर एक बिजनेसमैन को कुछ लोन का जरूरत पड़ता है. इसके लिए कोई भी बिजनेसमैन सीधा बैंक से एवं कोई भी सरकारी योजना के द्वारा लोन ले सकता है. जिसमें से सरकार की तरफ से कोई भी बिजनेस लोन योजना के मद्धम से लोन लेना आसान होता है, एवं उस लोन का ब्याज कोई भी बैंक लोन से कम ही होता है.
इसीलिए हम लोग हमेशा आपको सरकार की तरफ से Business Loan लेने के लिए साला देते हैं.

तो सरकार की तरफ से जो जो सरकारी लोन नया बिजनेस शुरू करने के लिए मिलता है, वह सारे नीचे पैराग्राफ में हम विस्तार से आलोचना किए हैं.

प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना 2022

भारत में कोई भी नया बिजनेस लोन देने वाला योजनाओं से सबसे फाइंड माय सरकारी योजना का नाम है प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना. इस प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना “माइक्रो यूनिट्स डेवलपमेंट एंड रिफाइनेंस गवर्नमेंट नए फैशन” के द्वारा तैयार किया गया था. इस योजना के द्वारा भारत सरकार हर एक माइक्रो बिजनेसमैन को उनकी कंपनी की कैपिटल के ऊपर बिचार करके new business loan प्रदान करता है.

यह माइक्रो एवं छोटे बिजनेस योजना का ब्याज अन्ना बिजनेस लोन से बहुत कम होता है.

लोन केटेगरी कितना लोन मिलेगा

  • किशोर लोन 50,000 से 5,00,000 तक का लोन मिलता है.
  • शिशु लोन 50,000 का लोन मिल सकता है.
  • तरुण लोन 5,00,000 से 10,00,000 तक का लोन लिया जाता है.

प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना के लिए क्या-क्या शर्तें हैं?

प्रधानमंत्री मुद्रा लोन बिजनेस योजना के अंदर आप कोई भी बिजनेस लोन लेना है, तो आप कोई भी नया एवं पुराना बिजनेस के लिए लोन अप्लाई कर सकते हैं. जैसे कि अगर आपका कोई भी पब्लिक कंपनी, और कोई भी पार्टनरशिप फर्म हो, हर एक तरह की बिजनेस प्लान के लिए आपको इस मुद्रा योजना के अंदर Business Loan मिल सकता है.

उद्योगिनी योजना

प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना के तारा, उद्योगिनी योजना महिलाओं के कोई भी छोटे या बड़े बिजनेस के लिए लोन प्रदान करता है. भारत सरकार ने यह योजना सिर्फ महिला बिजनेस के लिए ही चालू किया है.

इस योजना के अंदर अगर कोई भी महिला बिजनेसमैन उसकी नेया बिजनेस की पूरा मॉड्यूल सरकार को अच्छी तरीके से दिखा कर दो मैक्सिमम 15,00,000 रुपए तक का लोन दिया जा सकता है. इस उद्योगिनी योजना में आवेदन करने के लिए हर एक महिला का बायस 18 से 55 तक होना चाहिए.

अगर आप पहले से ही कोई भी बिजनेस के लिए और एक बिजनेस लोन ले चुके हैं, तो आपको एक चीस पाता होगा की अधिकतर सरकारी लोन योजना में आवेदन करने के लिए, आपके बिज़नेस का सालाना इनकम दिखाना पड़ता है. लेकिन इस उद्योगिनी योजना में आबेदन करने के लिए, कोई भी महिला को उसकी सालाना इनकम एवं इस लोन को पाने के लिए कोई भी प्रोसेसिंग फी देने की जरूरत नहीं है.

तो अगर आप एक महिला बिजनेसमैन हो और आपको आपके बिजनेस के लिए कोई भी बड़ा लोन चाहिए, तो आप इस उद्योगिनी योजना के द्वारा आसानी से आवेदन करके अपना नया बिजनेस के लिए कम बेयाज मै लोन ले सकते हैं.

MSME के लिए क्रेडिट गारंटी फंड स्कीम

छोटे बिजनेस के लिए “क्रेडिट गारंटी फंड योजना” एक अच्छा एवं लाभदायक लोन योजना है, जो भारत सरकार ने नेहा एवं पुराना इंटरप्राइजेज के लिए चालू किया है. इस योजना के अंदर हर एक MSME सेक्टर कंपनी को आसानी से लोन मिल सकता है. यह योजना अधिकतर छोटे इंडस्ट्री को टारगेट करके चालू किया गया है, जो Ministry Of MSMEs के द्वारा संचालित किया जाता है.

उद्योगिनी योजना के तारा, यह योजना भी महिला entreprenuer के लिए है. यह योजना वर्किंग कैपिटल लोन के ऊपर काम करती है एवं हर एक कंपनी को ₹20 lakh तक का लोन देती है.

नया बिजनेस शुरू करने के लिए लोन कैसे मिलेगा?

Start-Up India Scheme

कोई भी नया बिजनेस शुरू करने के लिए यह “स्टार्ट अप इंडिया लोन स्कीम” एक अच्छा योजना है, जो कि भारत सरकार द्वारा संचालित होता है. इस योजना के द्वारा भारत सरकार हर एक शेड्यूल कास्ट/शेड्यूल ट्राइब एवं हर एक महिला बिजनेस चलाने बाले को लोन दिया है. यह सरकारी लोन भारत के हर एक बैंक से मिल सकता है.

इस योजना के अंदर हर एक एप्लीकेंट्स को 10 लाख से एक करोड़ तक का Business लोन दिया जाता है, जो कि आपको अपना बिजनेस मॉडल के ऊपर भेज करके दिया जाता है.

यह सब बाकी जानकारी को छोड़कर इस योजना का सबसे अच्छा सुविधा है कि, अगर आपको इस स्टार्टअप इंडिया लोन योजना के अंतर्गत कोई भी लोन सेक्शन होता है तो आपको रिटर्न में भूल लोन अमाउंट का 75% तक देना होता है.

स्टार्ट अप इंडिया लोन स्कीम का पात्रता क्या है

अगर आप स्टार्ट अप इंडिया लोन स्कीम का सुविधा लेना चाहते हैं, तो आपको अपना कंपनी का शेयर का कम-से-कम 51% अपने पास होना पड़ेगा. इसके अलावा आपका कंपनी ट्रेडिंग, मैन्युफैक्चरर एवं अन्य न कोई भी छोटा इंडस्ट्रियल कंपनी में से एक होना पड़ेगा.

कुछ सरकारी योजना के जरिए आप अपने बिजनेस के लिए कहीं ना कहीं तरीके से कम ब्याज में बिजनेस लोन पा सकते हैं. कोई भी Business Loan Ke Liye Kya Documents चाहिए होता है.

बिज़नेस लोन के लिए डॉक्यूमेंट

अगर आप कोई भी नया बिजनेस शुरू करना चाहते हैं एवं इसके लिए आपको बिजनेस लोन चाहिए तो आपको कुछ जरूरी डाक्यूमेंट्स की जरूरत पड़ेगी जो हम नीचे विस्तार से आलोचना किए हुए हैं.

  • आधार कार्ड
  • रेशन कार्ड
  • आईडी कार्ड
  • बिजनेस मॉड्यूल पेपर
  • गारंटर व्यक्ति का ओरिजिनल पेपर
  • यह कुछ जरूरी कागजात कोई भी बिजनेस लोन लेने के लिए आपको चाहिए ही चाहिए.

बिज़नेस लोन का पास करवाने के लिए जरूरी बातें

बिज़नेस लोन का पास होना कई मापदंडों पर निर्भर करता है और इनमें से कोई भी पूरा नहीं होने की स्थिति में लोन आवेदन खारिज हो सकता है। इसलिए आज हम आपको इस भाग में बिज़नेस लोन रिजेक्ट होने के कारण बताएंगे। इससे आप बिज़नेस लोन आवेदन के लिए बेहतर तरीके से तैयार हो सकेंगे।

  • वार्षिक आय का कम होना

प्रत्येक वित्तीय संस्थान चाहता है कि यदि कोई बिज़नेस मैन लोन लेने का इच्छुक है तो वह हर वर्ष एक निश्चित न्यूनतम आय कमाने में सार्मथ्य हो। यह सुनिश्चित करता है कि आवेदक लोन वापस करने में पूरी तरह से सक्षम है।

  • बिज़नेस में अनुभवहीनता

स्टार्टअप अक्सर लोन प्राप्त करने में विफल होते हैं, क्योंकि स्टार्टअप शुरु करने वाला आवेदक या तो लंबे समय से बिज़नेस में नहीं हैं या फिर अनुभवहीन है। इसलिए उपाय यही है कि आप जितने अधिक समय तक बिज़नेस में रहे हैं, आप एक वित्तीय संस्थान के लिए उतने ही कम जोखिम वाले ग्राहक हैं।

  • आपका क्रेडिट स्कोर बहुत कम है

कम क्रेडिट स्कोर भी एक बहुत ही सामान्य कारण है कि क्यों एक वित्तीय संस्थान आपके बिज़नेस लोन आवेदन को अस्वीकार कर सकता है। प्रत्येक संस्थान के लिए आवेदक का क्रेडिट स्कोर बेहद मायने रखता है। कोई फर्क नही पड़ता कि आप कितने बड़े बिज़नेस मैन है और कितनी बड़ी कंपनी के मालिक है यदि आपकी क्रेडिट हिस्ट्री अच्छी नही है तो आपका लोन रिजेक्ट हो सकता है। यदि आपका क्रेडिट स्कोर कम है तो उसे जल्द से जल्द सुधारें।

  • बिज़नेस डूबने का जोखिम

कुछ प्रमुख आर्थिक कारक जैसे ईंधन की कीमतें, मुद्रास्फीति, आदि निवेशकों के विश्वास और निर्णय लेने में एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं। उदाहरण के लिए, एक बिज़नेस जो अपने परिवहन बिज़नेस का विस्तार करने की योजना बना रहा है, उसे ईंधन की बढ़ती कीमतों से निपटने के दौरान निवेशकों को लाभप्रदता के बारे में समझाना चुनौतीपूर्ण हो सकता है। इसलिए एक बिज़नेसमैन के तौर पर आपको अपने आसपास के आर्थिक कारकों के बारे में पर्याप्त जानकारी रखनी चाहिए और सही समय पर अवसरों का उपयोग करना चाहिए।

  • आपराधिक इतिहास

अंत में, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि आपका अतीत आपके बिज़नेस लोन आवेदन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यदि किसी व्यक्ति का आपराधिक इतिहास है, तो लेन-देन में विश्वास की कमी के कारण वित्तीय संस्थान लोन अस्वीकार करने के लिए मजबूर हो जाते है। इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि आवेदक या तो अपने आपराधिक इतिहास को उचित तर्क के साथ प्रकट करे ताकि संस्थान आपके आवेदन को रिजेक्ट करने पर विचार करे।

बिजनेस लोन FAQs

बिजनेस के लिए लोन कैसे मिलता है?

अगर आपको अपने बिजनेस के लिए कोई भी लोन चाहिए जो आपको पहले सारे सरकारी बिजनेस योजना के बारे में जाना पड़ेगा. उसके बाद आप अपना चाहिदा के हिसाब से कोई भी एक योजना को ढूंढ के, लोन के लिए आवेदन कर सकते हैं.

गरीब लोगों को लोन कैसे मिलेगा?

अगर कोई भी गरीबों बंदा एक अच्छा Business प्लान लेकर बैंक में जाता है, तो उसको आसानी से बैंक से कोई भी बिजनेस लोन मिल जाएगा.

कोई भी नया बिजनेस के लिए कितना लोन मिल सकता है?

अगर आपका Business अच्छा है तो आप को सरकार की तरफ से कोई भी अच्छा बिजनेस लोन योजना मिल जाएगा जिसका लिमिट 50 लाख से एक करोड़ तक हो सकता है.

नया बिजनेस शुरू करने के लिए लोन कैसे मिलता है?

अगर आपके पास कोई भी अच्छा Business Loan है तो आप इस प्लेन के साथ कोई भी बैंक में जाकर बिजनेस लोन के लिए आवेदन कर सकते हैं.

महिलाओं के लिए बिजनेस लोन कैसे मिलेगा?

अगर आपको कोई भी महिला बिजनेस लोन योजना के बारे में जानना चाहते हैं, तो आप हमारे इस पूरे लेख को अच्छी तरीके से परे.

बिज़नेस लोन कैसे लिया जाता है?

आज के डिजीटल युग में लोन लेना कोई मुश्किल काम नही रहा। यहां तक की अब आपको कार्यालयों में धक्के खाने की भी जरुरत नही है। आपको केवल वेबसाइट पर जाना है और अपना बिजनेस लोन अप्लाई करना है। सभी आवश्यक जानकारी दर्ज करने के बाद महज 48 घंटो के भीतर आपके लोन की प्रक्रिया शुरु हो जाएगी और कुछ ही दिन में लोन की राशि आपके खाते में होगी।

बिज़नेस लोन में कितना पर्सेंट ब्याज लगता है?

अपने ग्राहकों को बेहतर सुविधाएं देने के लिए प्रतिबद्ध है। यही कारण है कि अन्य संस्थानों की तुलना में बेहद कम बिजनेस लोन इंटरेस्ट रेट की सुविधा देता है। जिससे आप पर आर्थिक बोझ नही पड़ता।

बिज़नेस लोन के लिए डॉक्यूमेंट
 

सही ढंग से भरा हुआ एप्लीकेशन फॉर्म
पासपोर्ट साइज फोटो
के.वाई.सी दस्तावेज
बिज़नेस का वार्षिक रिटर्न
बिज़नेस रजिस्ट्रेशन डिटेल