मुद्रा लोन लेने का तरीका – Mudra Loan kaise milega

लोकप्रिय बैंकों के मुद्रा लोन की ब्याज दरें:-2021

मुद्रा बैंक (Mudra Bank) ब्याज दरें हर बैंक में अलग होती है और ये ब्याज दरें आवेदक की प्रोफ़ाइल और बिज़नस आवश्यकताओं पर निर्भर करती हैं। ब्याज दरों की सही जानकारी के लिए आवेदक को बैंक से संपर्क करना होगा। इसके अलावा बैंक की आधिकारिक वेबसाइट से भी सही ब्याज दरें पता की जा सकती है। हालाँकि, हमने कुछ लोकप्रिय बैंकों के बारे में नीचे बताया है, जो मुद्रा लोन देते हैं।

बैंक व संस्थानब्याज दरप्रोसेसिंग शुल्कअधिकतम लोन राशिलोन भुगतान अवधि
स्टेट बैंक ऑफ इंडिया9.75% से शुरुशिशु योजना के लिए – निल 10 लाख तकसाल तक
ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स8.15% से शुरुआवेदक की प्रोफाइल के अनुसार10 लाख तकसाल तक
बैंक ऑफ बड़ौदा9.65% से शुरु + SP (स्ट्रैटिजिकल प्रीमियम)शून्य 10 लाख तकसाल तक
कॉर्पोरेशन बैंक9.35% से शुरुआवेदक की प्रोफाइल के अनुसार₹ 10 लाख तकसाल तक
बैंक ऑफ महाराष्ट्र8.55% से शुरुआवेदक की प्रोफाइल के अनुसार₹ 10 लाख तकसाल तक
आंध्रा बैंक8.20% से शुरुआवेदक की प्रोफाइल के अनुसार 10 लाख तकसाल तक
पंजाब नेशनल बैंक9.60% से शुरुआवेदक की प्रोफाइल के अनुसार₹ 10 लाख तकसाल तक

नोट: उल्लिखित ब्याज दरें, फीस और शुल्क बैंक और आरबीआई के पूर्ण विवेकाधिकार पर निर्भर करते हैं, इन्हें कभी भी बदला जा सकता है। उल्लिखित शुल्कों पर जीएसटी और सर्विस टैक्स अतिरिक्त लगाया जाएगा।

बिज़नेस लोन के लिए अप्लाई करें. 11.90% प्रतिवर्ष से शुरूअभी अप्लाई करें

MUDRA लोन भारत में MSME क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए प्रधानमंत्री मुद्रा योजना ( PMMY ) के तहत प्रदान की जाने वाली आर्थिक सहायता है। मुद्रा योजना को 3 लोन योजनाओं में वर्गीकृत किया गया है जिसका नाम शिशु, किशोर और तरुण है। कोई न्यूनतम लोन राशि नहीं है, हालांकि अधिकतम लोन राशि  10 लाख रुपए तक है। प्रत्येक लोन की भुगतान अवधि 5 वर्ष तक की होती है, जिसमें बैंक या फाइनेंशियल संस्थान द्वारा कोई गारंटी या सुरक्षा की आवश्यकता नहीं होती है।  

मुद्रा लोन (Mudra) की ब्याज दरें लोन के आधार पर अलग- अलग दी गई है। मुद्रा लोन को इन तीन भागों में बाटा गया है, शिशु, किशोर, और तरुण लोन। बैंकों की ओर से हर लोन पर उनकी आवश्यकताओं और निर्धारित दिशा-निर्देशों के आधार पर ब्याज दरें लगाई गई है।

अधिकतम राशिजानकारी
शिशु₹ 50,000यह चरण उन व्यापारियों की जरूरतों को पूरा करता है जो अभी तक अपने व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं या जिनके स्टार्ट-अप अवस्था में हैं।
किशोर₹ 5 लाखयह उन व्यवसायियों की मदद करता है जिन्होंने अपना व्यवसाय शुरू किया है, लेकिन बाज़ार में इसे बनाए रखने के लिए धन की आवश्यकता है। इसके साथ ही यह उन व्यापारियों के लिए भी है जिन्हें अपने व्यवसाय शुरू करने के लिए अधिक धन की आवश्यकता होती है।
तरुण₹ 10 लाखये लोन उन लोगों के लिए होते हैं जिन्हें एक बड़े व्यवसाय की स्थापना करने की आवश्यकता होती है या बिज़नस के विस्तार के लिए धन की आवश्यकता होती है।

मुद्रा लोन योजना के ऑफर योजनाएं:

मुद्रा योजना (Mudra) में बिज़नस की आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए कई उप-योजनाएँ बनाई गई हैं। जो इस प्रकार हैं:

1.क्रेडिट फॉर माइक्रो इंटरप्राइज़ेज़: यह उप-योजना मुद्रा योजना (Mudra) के सबसे बुनियादी उद्देश्य के लिए बनाई गई है। यह लोगों की भागीदारी को बढ़ाने पर केंद्रित है ताकि ज़्यादा लाभ मिले और लाभार्थियों की संख्या बढ़ती रहे। वह लोग जो भूमि परिवहन, खाद्य उत्पादन, कपड़ा उत्पादन और सामुदायिक सेवाओं में शामिल है। वह इस योजना का लाभ ले सकते हैं और आत्मनिर्भर बनने के लिए अपना छोटा व्यवसाय शुरु कर सकते है।

2.महिला बिज़नस स्कीम: यहउप-योजना महिला व्यवसायी को ध्यान में रखते हुए बनाई गई है। इसका उद्देश्य महिलाओं, महिलाओं के समूहों, संयुक्त लायबिलिटी समूहों और महिलाओं के स्वयं सहायता समूहों को छोटे व्यापार को शुरु करने के लिए प्रोत्साहित करना है। इस महिला बिज़नस स्कीम के तहत महिला व्यापारियों को विशेष ब्याज की छूट भी दी गई है।

3.बैंकों के लिए रि-फाइनेंस स्कीम: बैंको द्वारा कर्ज़दारों को दिए गए 10 लाख रुपए तक की लोन राशि को मुद्रा योजना (Mudra) के तहत दोबारा बढ़ाया जा सकता है। हालांकि, रि-फाइनेंस सिर्फ मैन्यूफैक्चरिंग और सर्विस सेक्टर के छोटे और लघु उद्योगों के लिए दिया जाता है। भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा मुद्रा योजना के लिए जारी किए दिशा-निर्देशों के अनुसार, अनुसूचित कमर्शियल बैंकों को रि-फाइनेंस स्कीम के तहत पुराने वाले ब्याज दर पर ही लोन देना होता है। इसके अलावा क्षेत्रीय, ग्रामीण और को-ऑपरेटिव बैंक लोन रि-फाइनेंस रेट 3.5% से ज्यादा नहीं रख सकते।

4.माइक्रो क्रेडिट स्कीम: माइक्रो क्रेडिट स्कीम, माइक्रो फाइनेंस इंस्टीट्यूशंस को उनकी जरुरतों के हिसाब से आर्थिक मदद देती है। इस स्कीम के जरिए लोगों को, लोगों के समूह और छोटी व्यापारिक संस्थाओं को पैसे दिए जाते हैं।

5.मुद्रा कार्ड: मुद्रा कार्ड (Mudra Card) विशेष प्रोडक्ट को आसानी से क्रेडिट करने में मदद करता है और कार्डहोल्डर को विशेष फ्लेकसिबिलिटी देता है। इसका इस्तेमाल अकाउंट से मौजूद से ज़्यादा रकम निकालने के लिए ATM के रूप में किया जा सकता है।

6.क्रेडिट गारंटी फंड: क्रेडिट गारंटी फंड को लोन देने वाली संस्थाओं के लिए जोखिम को कम करने के लिए बनाया है। लोन देने वाली संस्थाओं के जोखिम को कम करने के लिए यह फंड एक लाख रुपए से ज्यादा का लोन देता है।

मुद्रा लोन EMI कैल्कुलेशन

मुद्रा लोन EMI की कैल्कुलेशन करने के लिए, आपको चयनित बैंक की आधिकारिक वेबसाइट पर EMI कैलकुलेटर में निम्नलिखित जानकारी दर्ज करने की आवश्यकता होती है

स्टेप 1: स्लाइडर से कुल लोन राशि का चयन करें या आवश्यक लोन राशि दर्ज करें। तरुण श्रेणी के तहत अधिकतम 10 लाख रु.

स्टेप 2: संबंधित बैंक द्वारा दी गई ब्याज दरें दर्ज करें

स्टेप 3: 12 महीने से 5 साल तक, अपनी आवश्यकता व क्षमता के अनुसार पुनर्भुगतान अवधि दर्ज करें

संबंधित सवाल

प्रश्न. मुद्रा लोन (Mudra Loan) योजना से अधिक से अधिक कितनी राशि तक का लोन मिल सकता है?उत्तर: मुद्रा लोन योजना की तरुण ’नाम की श्रेणी के तहत 10 लाख की अधिकतम राशि के लोन का मिल सकता है। इस लोन का इस्तेमाल व्यापार विस्तार और उससे जुड़े उद्देश्यों को पूरा करने के लिए किया जा सकता है।

प्रश्न. मुद्रा लोन (Mudra Loan) को वापिस चुकाने का समय क्या है?उत्तर: मुद्रा लोन चुकाने का अधिकतम समय 5 साल है।

प्रश्न. मुद्रा लोन (Mudra Loan) को पास कराने के लिए सिक्योरिटी/ गारंटी की आवश्यकता है?उत्तर: किसी भी बैंक को कोई सिक्योरिटी/ गारंटी देने की आवश्यकता नहीं है और बैंक आपको कोई सिक्योरिटी देने लिए भी नहीं कहेगा।

प्रश्न. मुद्रा (Mudra) की भूमिका और जिम्मेदारियां क्या है?उत्तर: मुद्रा की ज़िम्मेदारी निजी और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों, सहकारी समितियों, छोटे बैंकों, अनुसूचित कमर्शियल बैंकों और क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों समेत उन सभी बैंकों को मुद्रा लोन के लिए फण्ड देना है, जो मैन्यूफैक्र्चरिंग, व्यापार और सर्विस गतिविधियों में लगी छोटी और लघु व्यवसाय को लोन देते हैं। मुद्रा राज्य और क्षेत्रीय स्तर के आर्थिक मध्यस्थों के साथ भी काम करता है और आखिरी पायदान पर खड़ें फाइनेंसरों की आर्थिक मदद करती है।

प्रश्न. मुद्रा लोन (Mudra Loan) किन ग्राहकों के लिए है? मुद्रा लोन के लिए योग्य कौन है?उत्तर: मुद्रा लोन योजना नॉन-कॉरपोरेट छोटे बिज़नेस (NCSB) के लिए है। इसमें छोटी मैन्युफैक्चरिंग यूनिट, सर्विस प्रोडक्शन यूनिट, दुकानदार, फल/ सब्जियां बेचने वाले, फ़ूड सर्विस यूनिट, ट्रक ऑपरेटर्स, रिपेयर शॉप्स, मशीन ऑपरेटर्स, छोटे उद्योग, कारीगर, फ़ूड प्रोसेसर शामिल हैं। मुद्रा लोन के लिए वो व्यक्ति योग्य है जो एक छोटा व्यवसाय शुरु करना चाहता है।

प्रश्न. क्या ग्रेजुएट स्टूडेंट मुद्रा लोन (Mudra Loan) के लिए आवेदन कर सकता है?उत्तर: अगर कोई भी ग्रेजुएट अपना बिज़नस शुरु करना चाहता है और उसे आर्थिक मदद की ज़रुरत है तो वह मुद्रा लोन के लिए आवेदन कर सकता है।

प्रश्न. मैं 19 साल का हूँ क्या मैं अपने बिज़नस को शुरु करने के लिए मुद्रा लोन (Mudra Loan) ले सकता हूँ?उत्तर: हां, कोई भी व्यक्ति जिसकी उम्र 18 वर्ष से ज़्यादा हो और व्यापार, सर्विस या मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर्स में स्टार्टअप व्यवसाय करना चाहता हो, वो मुद्रा लोन ले सकता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *